Maa Beti Ko Chodne ki Ichcha-1
Maa Beti Ko Chodne ki Ichcha-1

              Maa Beti Ko Chodne ki Ichcha-2

आपको आज मैं अपने जीवन में घटी एक सच्ची घटना को, जिसे मैं खुद अपने शब्दों मैं लिखने का प्रयास कर रहा हूँ बता रहा हूँ और उम्मीद करता हूँ कि आप सभी को मेरी यह कहानी वासना से भर देगी।

मैं पहली बार लिख रहा हूँ इसलिए आपके मेल व सुझाव का इन्तजार करूँगा।

मैं आप सभी को पहले यह बताना चाहता हूँ कि इस घटना-क्रम में लिए गए नाम बदले हुए हैं, इनका किसी वास्तविक नाम से कोई सम्बन्ध नहीं है।

मेरी उम्र अब 28 है मेरा कद पांच फिट नौ इंच है और शरीर की बनावट औसत है।
मेरे लण्ड का नाप 6.5 इंच है।

अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ।
बात उन दिनों की है जब मैं स्नातकी के दूसरे वर्ष में था।

तभी मेरी मुलाकात मेरे कॉलेज में पढ़ने वाले मनीष से हुई, वो मेरी ही क्लास में पढ़ता था।

मुझे पता चला कि वो मेरे ही घर के पास, लगभग आधा किलोमीटर की दूरी पर रहता है।

धीरे-धीरे हमारी दोस्ती बढ़ती गई और हम अक्सर साथ में मूवी देखने और घूमने जाने लगे।

जब हम स्नातक के तीसरे वर्ष में पहुँचे तो मेरे और उसके बीच की दोस्ती इतनी बढ़ गई कि लोग हमसे जलते थे।

एक दिन अचानक मेरी मुलाकात उसके घर के पास हुई और वो मुझे अपने घर चलने के लिए जिद करने लगा।

मैंने भी उसको मना नहीं किया क्योंकि मैं इसके पहले कभी भी उसके घर नहीं गया था, तो मैं भी उसके घर वालों से मिलने के लिए बहुत उत्सुक था।

जब हम घर पहुँचे तो दरवाजा आंटी जी ने खोला। जैसे ही गेट खुला वैसे ही मेरा मुँह खुला का खुला रह गया।

क्या सौंदर्य था उसका.. मैं उसे शब्दों में बयान ही नहीं कर सकता।

तभी मनीष ने उनसे बोला- माँ.. यह रजनीश है और हम काफी अच्छे दोस्त हैं।

तो उसकी माँ ने हमें अन्दर आने को बोला।

तब जाकर मुझे होश आया कि मैं अपने दोस्त के साथ हूँ और अपने सुनहरे सपनों से बाहर आते हुए मैंने बड़ी हड़बड़ाहट के साथ उनको ‘हैलो’ बोला और अन्दर जाकर सोफे पर बैठ कर मनीष से बात करने लगा।

तभी अचानक मेरी नज़र उसकी बहन पर पड़ी जो कि मुझसे केवल 2 साल छोटी थी।

क्या बताऊँ.. उसकी माँ और उसकी बहन दोनों ही एक से बढ़ कर एक माल थीं।

फिर मनीष से मैंने उसके परिवार के बाकी लोगों के बारे में पूछा।

तो उसने बोला- हम चार लोग है मैं, बहन और मेरे माता-पिता।

उसके पिता का नाम आशीष है, माँ का नाम रौशनी और बहन का नाम नीता था।

ये सभी काल्पनिक नाम हैं।

तभी उसकी माँ मेरे और मनीष के लिए चाय लाई और मेरी तरफ कप बढ़ाने के लिए जैसे ही झुकी कि अचानक उसका पल्लू नीचे गिर गया, जिससे उसके 40 नाप के मखमली मम्मे मेरी आँखों के सामने आ गए और मैं उन्हें देखता ही रह गया।

मेरा मन तो किया कि इन्हें पकड़ कर अभी इसका सारा रस चूस कर गुठली बना दूँ।

लेकिन मेरी इच्छा दबी रह गई क्योंकि मेरा दोस्त भी साथ में था और हम काफी अच्छे दोस्त थे।

मेरे दोस्त की माँ दिखने में बहुत ही आकर्षक और जवान हुस्न की मल्लिका थी।

उसकी उम्र उस समय लगभग 40 या 42 होगी, लेकिन वो अपने आपको इतना संवार कर रखे हुए थी कि लगता ही नहीं था कि वो दो बच्चों की माँ भी है।
वो तो बस 30 की ही लग रही थी।
उसके लम्बे काले बाल उसके नितम्बों तक आते थे और उसके नितम्ब इतने अच्छे आकार में थे कि अच्छे-अच्छों का लौड़ा खड़ा कर दे, फिर मैं क्या था?

फिर उन्होंने पल्लू सही करते हुए मेरी ओर कप लेने का इशारा किया तो मैंने जैसे ही हाथ आगे बढ़ाया, उनका हाथ मेरे हाथ से टकरा गया।

हाय… क्या मुलायम हाथ थे।

उनके स्पर्श मात्र से मेरे बदन में एक बिजली सी दौड़ गई और अचानक मेरा लौड़ा तनाव में आने लगा।

खैर.. जैसे-तैसे मैंने खुद पर संयम किया लेकिन उसकी माँ ने मेरे खड़े लण्ड को देख लिया और एक मुस्कान छोड़ कर वहाँ से चली गई।

फिर मेरी और मनीष की बातचीत सामान्य तरीके से होने लगी।

उसने बताया उसके पिता सरकारी नौकरी करते हैं और हफ्ते में कभी-कभार ही अपने परिवार के साथ रह पाते हैं।

उसकी बहन जो बारहवीं क्लास में पढ़ रही थी।

मैं आपको नीता के बारे मैं बताना ही भूल गया।

आज तो उसकी शादी को दो साल हो गए, पर उस समय वो केवल 19 साल की थी।

जब मैंने उसे पहली बार देखा था और देखता ही रह गया था।

वो परी की तरह दिखती थी उसके लम्बे बाल, कमर तक थे।
उसकी बड़ी-बड़ी आँखें, उस समय उसके स्तन 32 इंच के रहे होंगे।
मतलब उसका हुस्न क़यामत ढहाने के लिए काफी था।
उसका साइज 32-27-32 था।

उसको मैंने कैसे चोदा, यह बाद में बताऊँगा।

फिर हमने चाय खत्म की और मैं उसके घर से सीधे अपने घर की ओर चल दिया।

घर पहुँचते ही मैंने अपने बाथरूम में रौशनी और नीता के नाम की मुट्ठ मारी, तब जाकर मेरे लण्ड को कुछ आराम मिला।

शाम हो गई थी लेकिन मेरी आँखों के सामने से उन दोनों के चेहरे हटने का नाम ही नहीं ले रहे थे।

जैसे-तैसे रात हुई, मेरी माँ ने मुझे बुलाया और कहा- क्या बात है.. आज कुछ बोल क्यों नहीं रहे हो?

तो मैंने उन्हें बोला- आज तबियत कुछ ठीक नहीं लग रही है।

इस पर उन्होंने मुझे एक दवाई दी और खाना खिला कर सोने के लिए बोला, तो मैं चुपचाप आकर अपने कमरे में लेट गया, तब शायद 10:30 बजे थे।

कमरे मे लेटते ही मुझे फिर से उनके चेहरे परेशान करने लगे और मेरा हाथ कब मेरे लोअर में चला गया मुझे पता ही न चला और लोअर में ही फिर एक बार झड़ गया, तब होश आया।

फिर मैं उठा और बाथरूम में जाकर मैंने अपने लण्ड को साफ़ किया और दूसरा लोअर पहन कर सो गया।

अगले दिन जब मैं सोकर उठा तो देखा मेरा लोअर फिर से गीला था।

शायद रात को मेरे सपनों में वो दोनों फिर से आ गई होंगी।

फिर मैं सीधे बाथरूम गया और नहा-धोकर सीधा माँ के पास गया और उनसे नाश्ता देने के बोला क्योंकि कॉलेज के लिए लेट हो रहा था।

फिर मैं नाश्ता करके कॉलेज पहुँच गया और मनीष से पूछा- तुम्हारे घर मैं कल पहली बार आया था, तो तुम्हारी माँ और बहन को कैसा लगा?

तो उसने बोला- उसकी माँ ने मेरे जाने के बाद उससे बोली कि तुमने बहुत ही शरीफ और अच्छे लड़के से दोस्ती की है। आज से तुम दोनों अच्छे दोस्त की तरह ही जिंदगी भर रहना।

मैंने अपने होंठों पर मुस्कान बिखेरी।

वो आगे यह भी बोला- तुझे माँ ने रात के खाने पर आज बुलाया है।

तो मुझे मन ही मन बहुत ही खुशी हुई ऐसा लगा जैसे रौशनी को चोदने की मेरी इच्छा जरूर पूरी होगी।

फिर मैं कॉलेज खत्म होने का इन्तजार करने लगा और फिर घर जाते मैंने शेव किया और माँ से बोला- आज रात का खाना मैं अपने दोस्त के यहाँ से ही खा कर आऊँगा, आप मेरे लिए इन्तजार मत करना। आप और पापा वक्त से खाना खा लेना।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *